Ticker

6/recent/ticker-posts

Stock Market में Investors कई तरीके से Shares को खरीदते - बेचते हैं

Stock market में Trading पर कोई Limitation नहीं है,
But, Stock market ने किसी वजह से किसी Particular stock के Trading पर कुछ Time के लिए किसी Stock में Circuit लगा है।

तो आप उस Share को Stock market के निर्देशानुसार ही Trading कर सकते है।

Trading segment of stock market in Hindi

A:- Equity segment

जिसमे सिर्फ Share, buy and sell किए जाते है,

B:- Derivative Segment

जिसमे Stocks, Future and Stocks Option, buy and sell किए जाते है,

C:- Commodites segment

जिसमे commodites future and commodites option, buy and sell किए जाते है।

D:- Currencies segment

जिसमे Currencies future और Currencies option buy and sell किए जाते है, ये share market के मुख्य Segment है जिसमे Investors, Trading करते है।

What is Intraday Trading in Hindi

Intraday Trading नाम से समझ आता है, एक दिन भर के अन्तराल में की जाने वाली Shares की Buying and Selling यानी Trading किसी Stock को जिस दिन ख़रीदा जाये।

उसी दिन उस Stock को Share Market Close होने से पहले बेच दिया जाये, या अगर आप Short Selling करते है।

तो Market Close होने से Share खरीद कर अपनी Open Position को Close कर ली जाये, तो इस तरह कि Trading को Intra-day Trading कहा जाता है।

वैसे ही Share market में की जाने वाली Trading एक Time Period  में बार-बार होती रहती है।

What is Swing Trading in Hindi

Swing Trading कुछ दिन या सप्ताह के अन्तराल में की जाने वाली Stocks की  Buying and Selling यानी Trading कहलाता है।

जब किसी Share को खरीदने के बाद, अगर उसे कुछ दिन के बाद बेचा जाये, तो जितने समय कोई Stock हमारे पास रहता है।

वो उस Stock का Holding Period कहलाता है, यानी Share खरीदने के बाद जितने समय तक हम उसे नहीं बेचते है, वो समय उस शेयर का Holding Period Time होता है।

और अगर आपका “Share Holding Period” कुछ दिनों से लेकर कुछ सप्ताह तक का है, तो इस तरह के Weekly, या Momthly Holding Period में की जाने Trading को, Swing Trading कहा जाता है।

What is Short Term Trading in Hindi

Short term trading  मतलब Share market में Trade करने की उस Date से है, जिसमे कोई Investors कोई Share कुछ दिनों से लेकर कुछ week तक के लिए Trade लेता है।

यहाँ Trade से मतलब Shares, Future or option के Buying and Selling से है।

For Example

1 Week Trade {2 दिन से लेकर 1 हफ्ते तक}

2 Week Trade {2 दिन से लेकर 15 दिन तक}

3 Monthly Trade {2 दिन से लेकर 4 हफ्ते यानी 1 महीने तक) या फिर Quarterly Trade (2 दिन से लेकर 3 महीने तक)

4 Half Yearly {1 हफ्ते से लेकर 6 महीने तक}

Short Term Trading and Swing Trading दोनों  एक जैसे है, इन दोनों Method में Investors कोई Trade कुछ दिनों से लेकर कुछ हफ्तों तक के लिए लेता है।

और Investors Sort Term में पैसा बनाने की कोशिश करते है,
 इस तरह के Trade लेने को Short Term Trading कहा जा सकता है।

What is Long Term Trading in Hindi

Stock market में जब किसी Stock में लम्बे समय तक Investment किया जाये, तो उसे Long Term Investing कहा जाता है।

Long Term Investing से मतलब, Share market में Trade करने की उस तरीके से है।

जिसमे कोई Investors कोई Share 6 महीने से लेकर कुछ सालो तक लिए उसी Stock में Investment किया रहता है।

For example

1 {1 साल से अधिक का Investment}

2 {1 साल से 3 साल तक का Investment}

3 {1 साल से 5 साल तक का Investment}

4 {5 साल या उस से ज्यादा समय के लिए Investment इस तरह के Time Period में की जाने वाली Trading को Long Term Trading कहा जाता है।

Long Term Trading में Technically देखा जाये तो, स्टॉक मार्केट में Investing जैसी कोई चीज नहीं होती, हम Share खरीदते और बेचते है।

चाहे समय का अंतर कितना भी हो, 1 दिन वाली Trading हो या 10 साल वाली Trading, Share market में सिर्फ Trading ही होता है।

जब हम किसी एक ही Company में लम्बे समय तक Share खरीदने के बाद बने पैसा उसी Company में लगाये रहते है, तो इस तरह की Trading को Investing कहा जाता है।

जानिए मेरे इस Blog में आपको क्या-क्या जानकारी मिलेगी

जानिए Investment क्या है इनके फायदे-नुकसान क्या-क्या हैं

जानिए Share market क्या है ये कैसे काम करते है

जानिए क्या Share market जुआ है या Business है

जानिए Share market से पैसे कैसे कमाए जाते हैं

जानिए Mutual funds क्या है ये कैसे काम करते हैं

जानिए India में Mutual funds कितने प्रकार के होते हैं

जानिए Mutual funds में Investment कैसे करते हैं

जानिए Sip क्या है इनके फायदे-नुकसान क्या क्या हैं

जानिए Sip और Lump-sum में कितना अन्तर है

Post a Comment

0 Comments