Ticker

6/recent/ticker-posts

mutual fund company kya hai aur kaise kaam karta hai

Mutual fund Company क्या है ये कैसे काम करते हैं

Mutual fund Company बहुत सारे लोगों से पैसा एकत्रित कर जिसे अलग-अलग जगहों पर Investment किया जाता है।

और कोशिश किया जाता है, Investors को उसकी Investment Amount से ज्यादा Return दिया जाए।

Mutual fund को manage करने का काम Professional fund manager के द्वारा किया जाता है।

Fund manager का काम mutual fund को manage करना mutual fund के पैसे को सही जगह में Invest करके अधिक Profit कमाना होता है।

जो Company,, mutual fund को manage करती है उसे,AMC (Assets management company कहते हैं।

AMC Investors and public से पैसा जुटाती है और इस पैसे को वे Equity financing and Debt financing में Investment करती है।

जो Share market के बारे में नहीं जानते हैं, तो उनके लिए mutual fund का investment एक best option है।

AMC,, mutual fund को manage करने के बदले में आपसे कुछ fee's charge करती है,
जिसे Expenses ratio कहते हैं।

Mutual fund scheme में होने वाले सभी खर्चों को Expenses ratio कहते हैं।

Expenses ratio में पता लगता है, कि किसी mutual fund में management के per unit का क्या खर्च आता है।

हरेक mutual funds के लिए अलग-अलग fund manager होते हैं।

जो उस mutual fund के goal's and objective और risk and capability के अनुसार उस mutual fund को manage करते हैं।
Mutual fund सबसे लोकप्रिय और Successful investment option में से हैं।

Mutual fund Investment Bank FD RD Account and Post office Investment से अलग है।

जब आप Mutual fund में Investment करते हैं, तो आप वास्तव में किसी Company में Stock खरीद रहे होते हैं।

जिस Company को आप खरीद रहे हैं, वह एक Investment Firm है। Mutual fund Securities में Investment करने के व्यवसाय में हैं।

Mutual fund की संपत्ति अलग-अलग होती है, लेकिन प्रत्येक Company का अंतिम लक्ष्य Shareholder के लिए पैसा कमाना होता है।

Mutual fund Company अपनी Service and Facility के लिए Fees Charge करती हैं, लेकिन उन Fees को कहां और कैसे शामिल किया जाता है, इससे फर्क पड़ता है।

Sales fees, जिसे आमतौर पर Load के रूप में संदर्भित किया जाता है, एक Investors द्वारा Mutual fund, Shares की खरीद से शुरू होता है।

मतलब कि, Investors, Additional percentage का Payment करता है, 5% की तरह कुछ, आमतौर पर Share की actual price के ऊपर Fund house आम तौर पर पूरे बिक्री शुल्क को बरकरार नहीं रखती हैं।

क्योंकि एक बड़ा हिस्सा अक्सर Brokers and Advisor को जाता है जो फंड बेचते थे।

विभिन्न प्रकार के Fund load हैं।
सबसे आम Front-end load  है, जो वास्तव में Share को खरीदने से पहले investment amount से तुरंत काटा जाता है।

FINRA {Financial Industry Regulatory Authority} Front-end load पर 8.5% Cap लगाती है।

Mutual fund company मुफ्त में काम नहीं करती हैं; ऐसे खर्चे हैं जिन पर फिर से विचार करने की जरूरत है।

These cover cost investment advisors,
Administrative staff,
fund research analysts,
distribution fees and operations की अन्य Cost का Payment करने के रूप में होती है।

Management fees का Payment, Shareholders से सीधे शुल्क के बजाय Fund assets से किया जाता है।

SEC को Management fees को एक अलग Item के रूप में सूचीबद्ध करना होगा और "अन्य" व्यय श्रेणी के साथ नहीं जोड़ा जाना चाहिए।

इसलिए Investors हमेशा नज़र रखते हैं कि Management compensation पर सबसे अधिक धन खर्च कर रहा है।

कई Mutual fund पर Exit load नहीं है; उन्हें No-load fund कहा जाता है। हालांकि इसका मतलब यह नहीं है कि वे Fess से मुक्त हैं।

No-load fund अभी भी अन्य प्रकार की Fee income से Revenue कमा सकते हैं।

लेकिन ये Companies, sales income की कमी की भरपाई के लिए Cost को कम करने की भी प्रवृत्ति रखती हैं।

यह अक्सर कम Active Investment Management and Funds के लिए अधिक Passive investment plan के लिए Correlated होता है।

Asset management company  एक ऐसी Firm है जो Stocks, bonds, real estate, etc. और बहुत कुछ विभिन्न Investments के माध्यम से काम करने के लिए Investors से Fund एकत्र करती है।

High net worth वाले Personal portfolio के साथ, AMC Hedge Fund और Pension schemes का Management करते हैं।

और Small investors की Better service करने के लिए Mutual funds, index funds and exchange-traded funds etc.

AMC Pooled structures बनाते हैं, जिन्हें वे Manage कर सकते हैं।

AMC Money manager and money management firm कहा जाता है।

जो लोग Public mutual funds or exchange-traded funds की Offer करते हैं, उन्हें Investment companies and mutual fund companies के नाम से भी जाना जाता है।

AMC कैसे काम करते हैं

AMC के पास Individual investor की तुलना में Large capital होता है, इसलिए AMC Investors को अधिक Diversification and investment options प्रदान करती हैं।

इतने सारे Customers के लिए Mutual funds and Share खरीदना AMC को पैमाने की अर्थव्यवस्थाओं का अभ्यास करने की अनुमति देता है, अक्सर उनकी खरीद पर मूल्य छूट मिलती है।

Pooling of assets and proportional returns का Payment भी Investors को Minimum investment आवश्यकताओं से बचने की अनुमति देता है।

जो अक्सर अपने आप ही Securities की खरीद करते समय आवश्यक होते हैं।

साथ ही साथ कम मात्रा में investment fund के साथ Securities के बड़े वर्गीकरण में Investment करने की क्षमता भी होती है।

AMC अपने Investors से Fees charge करते हैं।

AMC को By-side firm माना जाता है। मतलब है कि वे अपने Customers को Investment में help करते हैं।

वे तय करते हैं कि इन House Research and Data Analytics के आधार पर क्या खरीदना है।
but वे Cell-side firms से सार्वजनिक सिफारिशें भी लेते हैं।

इसके विपरीत,Investment Bank and Stockbroker जैसे Sell-side firms, AMC and other investors को Investment services बेचते हैं।

वे Market analysis का एक बड़ा प्रदर्शन करते हैं, Market Trend को देखते हुए और अनुमान बनाते हैं।

उनका उद्देश्य व्यापार आदेश उत्पन्न करना है, जिस पर वे Transaction fee and commission ले सकते हैं।

AMC Customers से विभिन्न प्रकार की Securities and assets मेंdeposited money का Investment करते है।

AMC Personal wealth managers से लेकर, High net worth वाले Personal accounts को संभालने के लिए, Mutual funds को प्रायोजित करने वाली Large investment companies को देते हैं।

AMC Managers को Fees के माध्यम से मुआवजा दिया जाता है, आमतौर पर Management के तहत Customers  की Assets का 1 percent ले सकते हैं।

जानिए मेरे इस Blog में आपको क्या-क्या जानकारी मिलेगी

जानिए Investment क्या है इनके फायदे-नुकसान क्या-क्या हैं

जानिए Share market क्या है ये कैसे काम करते है

जानिए क्या Share market जुआ है या Business है

जानिए Share market से पैसे कैसे कमाए जाते हैं

जानिए Mutual funds क्या है ये कैसे काम करते हैं

जानिए India में Mutual funds कितने प्रकार के होते हैं

जानिए Mutual funds में Investment कैसे करते हैं

जानिए Sip क्या है इनके फायदे-नुकसान क्या क्या हैं

जानिए Sip और Lump-sum में कितना अन्तर है

Post a Comment

0 Comments