Ticker

6/recent/ticker-posts

etf kya hai aur kaise kaam karta hai

What is ETF in Hindi {Exchange Traded Fund}

Exchange Traded Fund  एक ऐसे Basket of Security की तरह होता है।

जो Stock market में General shares की तरह Trading होता है।

ETF में Investment, Stock Trading and Mutual funds दोनों से मिलकर बना होता है,
ETF Investment का best option है।

ETF एक कम खर्च में किसी भी देश के Stock Index में किया जाने वाला Investment का best option है।

किसी देश का Index उस देश के सबसे अच्छे और मजबूत Company के Share से मिलकर बना होता है।

ETF किसी Stock market के Index में शामिल ,अलग-अलग Shares में उसी अनुपात में Investment करता है।

जिस अनुपात में अलग-अलग Shares उस Index में शामिल किये गए है।

For example NIFTY-50 एक Index है, और इस तरह NIFTY 50 ETF एक Nifty Index पर आधारित Fund है।

जो Only Nifty Index में शामिल 50 Shares में से किसी Shares में Investment करेगा।

और जिस Ratio में कोई Share NIFTY-50 के Index में शामिल है।

उसी Ratio में Fund का पैसा, उस Shares में लगाया जायेगा।

और इस तरह NIFTY-50 ETF में उतार चढाव उसी Ratio में होगा, जिस RATIO में NIFTY-50 के Index में होगा।

ETF एक Stock market के Shares की तरह Listed, Mutual funds होता है।

जिसकी Daily basis पे Trading होता है, Normal Mutual funds में दिन के ख़तम होने पर Stock का price या Underlying Assets की Valuation के basis पे NAV को Calculate किया जाता है।

और उस NAV के BASE पर Mutual funds की buying and selling होती है।

लेकिन ETF की सुविधा द्वारा आप Real time में Stock market में चल रहे price के आधार पर उस ETF को buy and sell कर सकते है।

अगर किसी दिन Market में 5% का उतार-चढाव आता है, तो जब भाव कम है तभी निवेशक उस ETF को खरीद सकता है।

और जैसे ही price बढ़ जाता है, तो वो उसे बेचकर Profit कमा सकता है।

ETF and Mutual funds में समानता

1. ETF एक Mutual funds की तरह है ,जो Investors से लिए गए पैसो को किसी खास Index के Shares या किसी दुसरे Asset class में Investment करता है।

2. जिस तरह आप Mutual funds में छोटे-छोटे Investment करके Investment का Profit ले पाते है।

वैसे ही ETF में Investment से भी आपको इस तरह लाभ मिलता है।

ETF Vs Mutual funds in Hindi

1. Mutual funds को Stock market में buy and sell नहीं कर सकते है।

लेकिन ETF की खरीद और विक्री किसी Shares की तरह ही Share market पर buy and sell कर सकते है।

2. Mutual funds में Investment  के लिए आपको Demat account की आवश्यकता नहीं होती है।

लेकिन ETF में Investment के लिए आपको Demat and Trading account की जरुरत होती है।

3. Mutual funds किसी Mutual funds Manager द्वारा Active रुप से खूब सारा Research करके Shares में Investment किया जाता है।

4. ETF में Investment करने के ऊपर लगने वाली fees यानी Expenses, किसी Other Mutual funds में लगने वाले Expenses से काफी कम होता है।

5. ETF को buy and sell दोनों समय हमें Brokerage fees देना होता है।

जबकि Mutual funds खरीदने पर हमें Exit fees देना होता है, और Fund को Manage करने के लिए Mutual funds fees भी देना होता है।

6. ETF को हम Real time,, Share market price पर buy and sell कर सकते है।

जबकि सामान्य Mutual funds को हम Day Trading नहीं कर सकते है, और इसमें हमें NAV के price पर ही buy and sell कर सकते है।

जानिए मेरे इस Blog में आपको क्या-क्या जानकारी मिलेगी

जानिए Investment क्या है इनके फायदे-नुकसान क्या-क्या हैं

जानिए Share market क्या है ये कैसे काम करते है

जानिए क्या Share market जुआ है या Business है

जानिए Share market से पैसे कैसे कमाए जाते हैं

जानिए Mutual funds क्या है ये कैसे काम करते हैं

जानिए India में Mutual funds कितने प्रकार के होते हैं

जानिए Mutual funds में Investment कैसे करते हैं

जानिए Sip क्या है इनके फायदे-नुकसान क्या क्या हैं

जानिए Sip और Lump-sum में कितना अन्तर है

Post a Comment

0 Comments