Ticker

6/recent/ticker-posts

debenture kya hai kitne prakar ke hote hain

What is Debentures in Hindi

Debenture एक तरह का ऋणपत्र है।

Debenture के जरिए Companies अपने Business के लिए आवश्यक Funds {पैसा} जुटाती है।

Companies अगर Shares जारी करना न चाहे तो वह या तो Bank से Loan लेती है या फिर इस तरह के Debenture And Bonds,, Issue करती है।

Debenture Issue कर के Company,, Investors से कुछ सालो के लिए Loan {पैसा} लेती है।

Company बदले में, Investors को Fixed Interest देती है।

Debenture में 2 तरीके से Interest मिलता है

1. हर साल या फिर परिपक़्व होने पर सभी साल का Interest और मूल राशि साथ में। Interest कितना मिलेगा, पैसा कितने साल के लिए देना होता है।

और किस तरह पैसा मिलेगा Company यह सब कुछ Debenture पर लिख  देती है।

अगर कोई Investors लम्बे समय तक हर साल एक Fixed Interest पाना चाहे तो वह Debenture में Investments कर सकता है।

Debenture परिपक़्व हो जाने पर वह Debenture Companies को देकर Investors अपना पैसा वापिस पा सकता है।

अलग अलग Debenture की अलग-अलग Terms and Condition होती है।

Types Of Debentures in India

Redeemable and Irredeemable debentures

i. Redeemable debentures in Hindi

इस तरह के Debenture किसी fixed time के बाद Company वापिस ले लेती है और Investors का पैसा उसे वापिस दे दिया जाता है। यह अवधि अलग-अलग हो सकती है।

उस पूरी अवधि के दौरान Investors को निश्चित ब्याज मिलता रहता है। अवधि पूरी होने पर मूल राशि मिल जाती है।

ii. Irredeemable debentures in Hindi

इस तरह के Debenture की कोई निश्चित अवधि नहीं होती। इस लिए जब तक Company close नहीं हो जाती तब तक Investors को सिर्फ Interest मिलता रहता है।

2. Secured and Unsecured debentures in Hindi

i. Secured debentures in Hindi

सुरक्षित Debenture अपने नाम की तरह ही सुरक्षित होते है। यह सुरक्षा Company की किसी संपत्ति के रूप में होती है।

अगर bank को loan की amount वापिस न मिले तो bank जिस घर के लिए loan दिया था उसे बेचकर अपना पैसा वापस जुटा सकती है।

इसी तरह Secured Debenture में कंपनी की कोई संपत्ति सुरक्षा के तौर पर रखी जाती है।

ii. Unsecured debentures in Hindi

Unsecured  Debentures में Debenture के इलावा कोई सुरक्षा नहीं होती।

यानि अगर कंपनी Investors का पैसा ले कर भाग जाए तो Investors की मूल राशि का नुकसान हो सकता है।

यह Debenture,, Investors,, Debenture Issue करने वाली कंपनी के लाभ देने वाले व्यापर और Company की प्रतिष्ठा के ऊपर खरीदता है।

3. Registered and Unregistered debentures in Hindi

i. Registered debentures in Hindi

Registered Debenture में Investors का नाम होता है। और इसकी जानकारी Company के पास Registered होती है।

जिस व्यक्ति का नाम Debenture पर होगा उसे ही ब्याज मिलेगा। अगर Investors उस Debenture को बेचना चाहे तो उसके लिए उसे company के द्वारा उसे खरीद दार के नाम पर transfer करवाना होगा।

ii. Unregistered debentures in Hindi

Unregistered Debenture में किसी का नाम Registered नहीं होता।

यह कुछ हद तक रुपियो की नोट की तरह ही होता है। यह Debenture जिस के पास होता है वही उसका मालिक होता है।

4. Convertible and Non-convertible debentures in Hindi

i. Convertible debentures in Hindi

 Debenture ऐसे Debenture होते है जिन्हे निश्चित समय अवधि के बाद Share में Convert किया जा सकता है।

किस दाम के Share convert होंगे वह भी Debenture पर लिखा होता है।

इसका लाभ Investors तब उठा सकता है जब उस company के shares बहुत उचाई पर हो।

Debenture को share में convert कर के उसे Stock market पर बेच सकता है।

ii. Non-convertible debentures in Hindi

Non-convetiable Debenture ऐसे Debenture होते है जिन्हे share में Convert नहीं किया जा सकता है।

इस में Investors को सिर्फ ब्याज ही मिलेगा और समय अवधि ख़त्म होने पर मूल राशि वापस मिलेगी।

अगर Investors चाहे तो इसे दूसरे Investors को बेच कर ही पैसा वापिस लेना होगा।

5. Callable and Putaible debentures in Hindi

i. Callable debentures in Hindi

 इस तरह के Debenture में एक सुविधा है जिस से Companies अगर चाहे तो निश्चित समय के बाद Debenture को वापिस ले सकता है।

और Investors को उसका पैसा वापिस दे दिया जाता है।

ऐसा company उस वक्त करती है जब company को Debenture के निश्चित ब्याज से कम ब्याज पर बाजार से पैसा मिल सकता हो।
इस तरह company अपना ब्याज भुगतान कम कर सकती है।

ii. Putable debentures in Hindi

इस तरह के Debenture में Investors के लिए यह सुविधा है, की वह निश्चित समय के बाद Debenture के परिपक़्व होने से पहले ही company को Debenture वापिस दे सकता है।

ऐसा Investors तब कर सकता है जब Investors को Debenture में मिलने वाले ब्याज से ज्यादा ब्याज बाजार में मिल रहा हो।

6. Fixed and Floating Rate Debentures in Hindi

i. Fixed rate debentures in Hindi

Fixed rate Debenture में मिलने वाला ब्याज का प्रतिशत निश्चित अंक में होता है।
जैसे 8 % या 10 % etc.

इस से परिपक्वता अवधि तक Investors को निश्चित दर से ब्याज मिलता रहता है।

अगर आने वाले समय में interest rate कम हो तो इस से company को loss हो सकता है।

ii. Floating rate debentures in Hindi

Floating rate Debenture में मिलने वाला ब्याज निश्चित नहीं बल्कि किसी Benchmark से link किया हुआ होता है।

जानिए मेरे इस Blog में आपको क्या-क्या जानकारी मिलेगी

जानिए Investment क्या है इनके फायदे-नुकसान क्या-क्या हैं

जानिए Share market क्या है ये कैसे काम करते है

जानिए क्या Share market जुआ है या Business है

जानिए Share market से पैसे कैसे कमाए जाते हैं

जानिए Mutual funds क्या है ये कैसे काम करते हैं

जानिए India में Mutual funds कितने प्रकार के होते हैं

जानिए Mutual funds में Investment कैसे करते हैं

जानिए Sip क्या है इनके फायदे-नुकसान क्या क्या हैं

जानिए Sip और Lump-sum में कितना अन्तर है

Post a Comment

0 Comments