Ticker

6/recent/ticker-posts

Mutual fund को Regular plan से Direct plan में Switch कैसे करें

Mutual funds को Regular plan से Direct plan में Switch करें

आपके Mutual funds Investment, Regular plan में हो सकते है, आप New Investment, Direct plan में करके Commission  बचा सकते हैं।

But जो आपके पुराने Investment Regular plan में हैं, उन पर Commission जाता रहेगा।

Commission से बचने के लिए आप अपने Regular plan को Direct plan में Switch कर सकते हैं।

Regular plan से Direct plan में Switch करते Time ध्यान रखें

अगर आप अपना Investment एक Scheme के Regular Plan से Direct Plan में Switch कर रहे हैं, तो यह 2 transactions के बराबर है।

Regular Plan में बेचना (Redemption in Regular Plan) Direct Plan में खरीदना (Purchase in Direct Plan) जब भी आप Mutual Funds बेचते हैं, तो आपको 2 बातों का ख्याल रखना चाहिए।

1. Exit Load in Mutual Funds

Exit Load अगर आप Mutual funds  को जल्दी बेचते हैं, तो आप पर यह Penalty देनी पड़ती है।

Equity mutual funds में एक साल से पहले बेचने पर 1% Penalty लगती है,

Debt Mutual Funds में कम Time Period रहती है,

Exit Load और Exit Load Period हर Schemes में अलग-अलग होता है।

अपने Scheme Information Document को पढ़ें या Value Research Online पर भी यह जानकारी पा सकते हैं।

2. Capital Gains Tax in Mutual fund

Mutual funds  बेचने पर आपको Tax देना पड़ता है, अगर आप Regular plan से Direct Plan में Switch कर रहे है।

इस बात पर ध्यान रखना होगा की आप Exit Load बचा सकें और Tax का असर कम कर सकें।

Equity Funds में Regular से Direct plan में कब Switch करें

Equity Funds में एक साल के बाद निकलने पर Exit load नहीं देना होता है,
आपके scheme में यह अलग-अलग हो सकता है।

इसके साथ ही एक साल के बाद आपको कोई Capital gains tax भी नहीं देना होता, तो अगर Investment को एक साल हो गया है, तो आप उसे Regular से Direct प्लान में Switch कर सकते हैं।

Debt Funds में Regular से Direct plan में कब Switch करें

Debt Mutual Funds में Exit Load इतनी बड़ी Problem  नहीं है, But, Capital Gains Tax एक बड़ी Problem है।

3 साल से पहले बेचने पर Profit पर अपने Slab Rate (tax bracket) के हिसाब से Tax देना होता है।

उसके बाद बेचने पर Long Term Capital Gains tax (20% indexation के adjustment के बाद) देना होता है।

इस Case में tax liability काफी कम हो सकती है।

तो Debt Mutual funds में आपको Regular Plan से Direct Plan में Switch करने से पहले आपको 3 साल तक इंतज़ार करना पड़ता है।

Regular plan में SIP Start है, उसे Direct Plan में कैसे Switch करें

आप SIP Switch नहीं कर सकते हैं, आपको Regular Plan में SIP रोकें (इससे आपके Regular Plan में नए Investment रुक जायेंगे)
Direct Plan में New SIP Start करें (नए Investment Direct plan में होंगे)
धीरे-धीरे Regular plan में अपने Investment को Direct Plan में Switch करें।

SIP की हर किश्त एक नए Investment की तरह होती है, तो Exit load and Capital gains tax बचाने के लिए इस बात का ध्यान रखें।

जानिए मेरे इस Blog में आपको क्या-क्या जानकारी मिलेगी

जानिए Investment क्या है इनके फायदे-नुकसान क्या-क्या हैं

जानिए Share market क्या है ये कैसे काम करते है

जानिए क्या Share market जुआ है या Business है

जानिए Share market से पैसे कैसे कमाए जाते हैं

जानिए Mutual funds क्या है ये कैसे काम करते हैं

जानिए India में Mutual funds कितने प्रकार के होते हैं

जानिए Mutual funds में Investment कैसे करते हैं

जानिए Sip क्या है इनके फायदे-नुकसान क्या क्या हैं

जानिए Sip और Lump-sum में कितना अन्तर है

Post a Comment

0 Comments