Ticker

6/recent/ticker-posts

mutual funds kya hai aur kaise kaam karta hai

Mutual Funds क्या है कैसे काम करते हैं इनके लाभ क्या है

आप भी Mutual funds Scheme में निवेश करना चाहते हैं। तब तो आपको इसमें फिर निवेश करने से पहले इसको अच्छे से जान लेना और समझ लेेेना बहुत जरूरी है।

क्या आप भी जानना चाहते हैं कि Mutual Funds se Paise kaise kamaye इसका business क्या है ये कैसे काम करते हैं। इससे आपको इसमे निवेश करने के Decision लेने में help मिलती है।

तो आपको मैं अपने इस Article Mutual Funds Investment in Hindi के माध्यम से इसकी पूरी जानकारी देने वाला हूँ। इसमें कितना पैसा Invest करना पड़ता है।

मैं आपको बताने वाला हूँ कि Mutual fund kaise kam karta hai ये हमें कितना लाभ दे सकते हैं। ये हमे किस तरह से अमीर बना सकता है।

इस Article Mutual Funds Kya Hota Hai में ये जान जाएगें की इसमें कैसे Investment करें। इसमें हम ये जान पाएंगे कि ये हमारे लिए कितना लाभदायक है।

या फिर इसमें हमारा कुछ नुकसान भी हो सकता है। यदि इसमें कुछ नुकसान नहीं हो सकता है तो इसमें हमें किसी दूसरे निवेश से कितना अधिक लाभ मिलेगा।

आप यह भी जान लें कि जैसा हमें Advertisement में बताया जाता है कि Mutual fund Sahi Hai क्या ये सच में सही होता है या सिर्फ लोगों को इसमें Interest जगाने के लिए ऐसा बताया जाता है।

आज के समय में TV and Online Platform जैसे कि Social media और Apps and Website में जिस तरह से Mutual funds Scheme के Advertising हम लोगों को दिखाया जा रहा है।

उसे देखकर आप लोगों के मन में यह सवाल जरूर आया होगा कि Kya Mutual funds Sahi Hai या फिर ये Risky है।

हमारे देश भारत का हर नागरिक चाहता है कि, वह बहुत ही कम Risk पर अधिक लाभ कमा ले।

और बहुत कम ऐसे Investment Plan है, जहाँ पर Low Risk में अच्छे Profit मिलते है।

जो भी plan होते है, उनमे High Return की संभवना होती है, वहाँ तो फिर Risk भी High होता ही है।

कहने का मतलब है कि जहां अच्छा लाभ मिलेगा वहां पैसा खोने की संभावना बनी रहेगी और जहां काम लाभ मिलेगा वहां पैसे तो सुरक्षित रहेगें लेकिन आपके इच्छानुसार लाभ नहीं मिल पाएगें।

Mutual fund में निवेश करने की शुरूआती और पहली कीमत 500 ₹ है, इसलिए long term के Invest में आपको अच्छा लाभ मिल जाता है।

इस तरीके से invest करने में एक problem यह होती है कि आपको mutual fund का खुद ही research and analysis करना पड़ता है।

India में Mutual fund सबसे लोकप्रिय और कामयाब Scheme हैं।

ये Bank FD Account and RD Account, Post office Scheme और कुछ अन्य Investment से अलग होता है।

Mutual fund का काम हमारे पैसों को manage करना और फिर उन पैसे को सही जगह में निवेश करना होता है। फिर हमारे पैसे से हमे हमारे पैसों से अधिक पैसा देना।

Fund यानी पैसे वे पैसे जो बहुत सारे लोगों से एकत्रित कर लिए जाते हैं उसे fund कहते हैं।

Mutual fund भी एक fund है, जिसमें बहुत सारे लोगों से पैसा एकत्रित कर लिए जाता है, और फिर उन पैसों को अलग-अलग जगहों में निवेश किए जाते हैं।

और हम आप जैसे लोग जो कि Mutual fund में निवेश किए होते हैं, तो फिर हमारे उन पैसों से AMC (Assets Management Company) को जो भी profit होता है।

तो उस Profit को उन लोगों के बीच में बांट दिया जाता है, जिन लोगों ने उस fund में invest किए थे।

इसमें हम आप जैसे बहुत सारे लोगों से पैसा एकत्रित होता है, जिसे अलग-अलग जगहों पर निवेश करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

और कोशिश यह की जाती है, कि Investors को उसकी amount से ज्यादा से ज्यादा AMC के द्वारा return and profit दिया जाए।

Mutual fund को manage करने का सारा काम Professional fund manager के द्वारा होता है।

Fund manager का काम केवल fund को manage करना व fund के पैसे को सही जगह में निवेश करके अधिक से अधिक लाभ कमाना होता है।

जो Company,, इसको manage करती है उसे, AMC कहते हैं।

AMC एक ऐसी Company है जो कि Stocks, Bonds and Debenture Real estate, etc. के माध्यम से काम करने के लिए Investors से पैसा एकत्र करती है।

AMC Investors and public से पैसा जुटाती है और इस पैसे को वे Equity financing और Debt financing में निवेश करती है।

जो लोग भी Stock market के बारे में नहीं जानते हैं, तो उनके लिए mutual fund एक best option होता है।

AMC,, किसी fund को manage करने के बदले में आपसे कुछ fee's charge करती है, इसमें होने वाले सभी खर्चों को Expenses ratio कहते हैं।

Expenses ratio में आपको यह पता लगता है, कि किसी mutual fund में management के per unit का क्या खर्च आता है।

प्रत्येक Schemes के लिए अलग-अलग fund manager होते हैं।

जो उसके goal's and objective और risk and capability के अनुसार ही fund को manage करते हैं।

AMC हमारे Mutual funds में invest किए गए पैसे को 2 तरह से इस्तेमाल करते हैं।

Debit financing Vs Equity financing in Hindi

A:- What is Debt financing in Hindi

में आपका पैसा debt instruments में invest किए जाते हैं।

For example mutual funds जो की bond's,, debenture,, government securities और government and companies को पैसा उधार देते हैं।

और वे बदले में ब्याज देते हैं, तो जो mutual fund,, debt instruments में invest करते हैं उन्हे debt mutual fund कहते हैं।

B:- What is Equity financing in Hindi

में आपका पैसा stock market में invest किए जाते हैं, तो काफी हद तक equity mutual fund का performance,, stock market के performance पर depend होता है।

इसलिए जो mutual fund,, stock market में invest करते हैं उन्हे equity mutual fund कहते हैं।

How to Invest in Mutual funds

1. Direct and 2. Regural

Mutual fund की Parent company के पास जाये, और वहा जाकर invest कर दें।

और फिर दूसरा तरीका ये है कि, आप AMC के पास ना जाकर किसी mutual fund Agent के पास जाते है।

या फिर किसी Financial Adviser के पास जाते है, और वह आपके लिए अलग-अलग Scheme में invest करने के लिए advice देते है।

और आपके Agent या फिर financial services company का बीच में एक commission होता है।

यहाँ तक कि आप अगर अपने bank के जरिए से, उनके Mobile app and Website से भी mutual fund में निवेश करते है।

आपका bank भी आपके लिए खुद एक Agent के रूप में कार्य करता है।

Direct mutual fund investment का सबसे बड़ा फायदा ये है।

कि आप इसमें commission के रूप में जो पैसा आपके investment से Agent ले लेता है, उस commission को आप बचा सकते है।

आम तौर मे Direct and Regural Mutual fund की fee's में 1% से 2% तक फर्क होता है।

Investment Strategies in Mutual funds

A:-LUMP-SUM Investment in Hindi

एकमुश्त और इस तरह Mutual fund में lump-sum Investment का अर्थ एकमुश्त या एक साथ one time किया जाने वाला investing है।

lump sum किसी bank में fixed deposit की तरह किया जाने वाला investing है।

lump-sum में आपका पैसा को एक साथ fixed deposit account की तरह invest किए जाते हैं।

यानी की पूरे पैसों को एकबार में ही Scheme में invest कर दिया जाता है।

Mutual fund और fixed deposit दोनों बिल्कुल अलग अलग चीजे है।

किसी भी fund में lump sum से पहले अपने investing target को जरुर ध्यान में रखें।

इसमें कम से कम 5000 रूपये तक का invest किया जा सकता है, अलग-अलग Funds की Minimum Required amounts अलग-अलग हो सकती है।

B:- SIP Investment in Hindi

SIP में आपका पैसा हर महीने, हर तिमाही, या, हर छमाही में reoccurring deposit account की तरह invest किए जाते हैं।

SIP जो कि किसी bank की Recurring deposits की तरह होता है, और इसमें हम हर महीने अपने saving के पैसे को Reoccurring mode में invest कर सकते है।

जब हमारे पास investing करने के लिए कोई बहुत बड़ी रकम नहीं होती है।

तब हम bank के RD deposit की तरह ही अगर mutual fund में invest करना चाहते हैं।

तो SIP के माध्यम से Rs 500 monthly भी शुरुआत कर सकते है, Sip में आप थोड़ा-थोड़ा करके पैसे को mutual fund में investment कर सकते है।

यानी की आप Scheme के investment को किस्तो में payment कर सकते हैं। Sip में auto debit facility का उपयोग किया जाता है।

यानी आपकी चुनी हुई date पर आपके bank account से पैसे काटकर आपकी चुनी हुई Scheme में sip के द्वारा invest कर दिया जाता है।

तो अगर आपने किसी fund में sip के जरिए invest करते हैं।

तो अगर आपने, हर महीना, हर तिमाही, या हर  छमाही के 1 तारीख को यदि आप sip start करते हैं।

तो आपके हर महीने, हर तिमाही, या हर छमाही की 1 तारीख को ₹1000 आपके bank account से काट लिए जाते हैं।

How to Add Nominee in Mutual funds

A:- Online Mutual fund registration in Hindi

आपने जिस भी AMC से ये fund ख़रीदा है। उस AMC के mobile app and website पर जाने के बाद अपने account में login करके।

आप अपनी profile में Edit के option में जाकर भी Mutual Fund Nominee का registration कर सकते है।

B:- Offline Mutual fund registration in Hindi

हम AMC के पास जाकर nomination form भर के Mutual Fund Nomination को Add करा सकते हैं।

जिस तरह एक share की value उसके price से पता चलती है वैसे ही एक mutual fund की value उसकी NAV (net assets value) से पता चलती है।

जब कोई Company पहली बार stock market से पैसा उठाती है, तो उसे,, IPO (initial public offering) कहते हैं।

वहीं जब कोई Mutual fund,, lunch होती है, तो, NFO (new fund offer) कहते हैं।

mutual fund,, lunch होने से पहले उस Scheme के offer documents,, publish किए जाते हैं।

Offer documents में उस fund के Goal's and Objective,,

Risk and Rewards और इन जैसे और भी बहुत सारे details,, publish किए जाते हैं।

वैसे तो ये बहुत से प्रकार के होते हैं, हरेक mutual fund के goal's and objective और risk and capability अलग-अलग होते हैं।

किसी भी Mutual fund के AMC के बारे में जानना जरूरी होता है।

इसमें Nominee जोड़ना बहुत important है, अगर कोई व्यकित fund में invest करता है, और वह nominee का नाम उस Scheme में registered नहीं करता है।

तो उसके मौत के बाद उसका पैसा उसके उत्तराधिकारी को मिलने में बहुत problem होता है।

तो किसी अनहोनी की दशा में, उस व्यक्ति का पैसा उसके उत्तराधिकारी को ही मिले इसके लिए बहुत जरुरी है कि, Investment करते समय ही fund में nominee का registration करे।

Loan Against Mutual funds in Hindi

इस Service and Facility का नाम LAMF { Loan Against Mutual Funds} है।

आप केवल उन्ही fund के खिलाफ loan ले सकते हैं।

जिनको CAMS (Computer Age Management Services Private Limited) सेवा प्रदान करता है।

केवल Individual holding वाले Mutual fund Investment के खिलाफ ही loan मिलेगा।

जो Investment आपने Joint holding mode में किया है, उसके खिलाफ आपको loan नहीं मिलेगा।

आपके Mutual fund के पास 500000 की Overdraft facility है।

आप एक बार 500000 रुपये निकालते हैं, और कुछ time बाद Amount का Payment कर देते हैं।

Payment के बाद आप फिर 500000 तक निकाल सकते हैं। 

जब तक आप Overdraft facility को बंद नहीं कर देते, आप अपने fund को बेच नहीं सकते है।

Loan का Payment न होने की स्तिथि में bank आपके funds को बेच भी सकता है।

Benefits of Mutual funds in hindi

1. Expert Fund Manager करते हैं आपके पैसों का Management

इसका सबसे बड़ा Profit है कि आपका पैसों का देख-रेख, Expert Fund Manager करते हैं।

ये Company and Economy पर Research and Analysis करते हैं।

इसके बाद वे पैसों को सही जगह पर Invest करते हैं, वे Regular, Market पर नजर रखते हैं।

आप Share Market के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं हैं या समय नहीं है कि आप इस पर नजर बनाए रखें तो आप Mutual funds में Investment कर सकते हैं।

2. आपका पैसा All companies में Investment होता है

इसमें दूसरा सबसे बड़ा फायदा यह है कि आपका पैसा अगल-अलग Sector की Companies में निवेश किया जाता है, तो आपका Investment Diversify हो जाता है।

ऐसे में अगर किसी Sector and Company को Loss होता है तो जब आपके Return पर ज्यादा असर नहीं पड़ता है।

क्योंकि दूसरे किसी Sector की Company से इस Loss की भरपाई हो सकती है।

3. Government Regulations के तहत Mutual fund industry काम करता है

ये SEBI and AMFI के बनाए Rules के तहत काम करता है।

इसकी वजह से AMCs के काम करने का तरीका पूरी तरह से पारदर्शी होता है।

इससे हमारा पैसा यहां पर पूरी तरह से Safe and Secure रहता है।

4. Mutual funds में कभी भी Investment कर सकते हैं

इसका एक और फायदा यह है कि इसमें आपको यह नहीं सोचना पड़ता है।

कि अभी Market में तेजी है या गिरावट है तो मुझे कब Invest करना चाहिए।

5. आपका Monthly Budget प्रभावित नहीं होता है

SIP के जरिए आप हर महीने 500 और 1,000 Invest कर सकते हैं।

आप हर महीने Small amount Investment करते हैं तो आपका Monthly खर्च पर कोई खास फर्क नहीं पड़ता है।

6. सपनों को पूरे करने में आपकी मदद करता है

हम जो पैसा Invest करते हैं उसका कोई लक्ष्य नहीं होता है।

For example घर खरीदना, बच्चो की Education, शादी आदि।

इनके लिए Large Amount की जरूरत होती है। Short term में इतना पैसा जुटाना हर व्यक्ति के लिए संभव नहीं होता है।

लेकिन Mutual fund के जरिए आप Long term में Large profit बना सकते हैं।

जानिए मेरे इस Blog में आपको क्या-क्या जानकारी मिलेगी

जानिए Investment क्या है इनके फायदे-नुकसान क्या-क्या हैं

जानिए Share market क्या है ये कैसे काम करते है

जानिए क्या Share market जुआ है या Business है

जानिए Share market से पैसे कैसे कमाए जाते हैं

जानिए Mutual funds क्या है ये कैसे काम करते हैं

जानिए India में Mutual funds कितने प्रकार के होते हैं

जानिए Mutual funds में Investment कैसे करते हैं

जानिए Sip क्या है इनके फायदे-नुकसान क्या क्या हैं

जानिए Sip और Lump-sum में कितना अन्तर है

Post a Comment

0 Comments